Press "Enter" to skip to content

आज हम आपको पहाड़ों पर बसे देवी भीमाकाली मंदिर की परंपरा शक्ति और इतिहास से रू-ब-रू कराने जा रहे हैं।

समुद्र तल से 2165 मीटर की ऊंचाई पर बसे सराहन गांव को प्रकृति ने पर्वतों की तलहटी में अत्यंत सुंदर ढंग से सुसज्जित किया है। सराहन को किन्नौर का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है। यहां से 7 किलोमीटर नीचे सभी बाधाओं पर विजय पाकर लांघती और आगे बढ़ती सतलुज नदी है। इस नदी के दाहिनी ओर हिमाच्छादित श्रीखण्ड पर्वत श्रृंखला है। समुद्र तल से पर्वत की ऊंचाई 18500 फुट से अधिक है।

Bhimakali Temple , देवी भीमाकाली मंदिर परंपरा की शक्ति और इतिहास , devi bhimakali temple sarahan himachal pradesh , india , temples , himachali.in , bhimakali , kinnaur , history and facts , power , hindu , bodh , पहाड़ों पर बसे देवी भीमाकाली मंदिर की परंपरा शक्ति और इतिहास से रू-ब-रू कराने जा रहे हैं। ,बुशहर राजवंश

माना जाता है कि यह पर्वत देवी लक्ष्मी के माता-पिता का निवास स्थान है। ठीक इस पर्वत के सामने सराहन के अमूल्य सांस्कृतिक वैभव का प्रतीक भीमाकाली मंदिर अद्वितीय छटा लिए स्थित है। राजाओं का यह निजी मंदिर महल में बनवाया गया था जो अब एक सार्वजनिक स्थान है।

 

मंदिर के परिसर में भगवान रघुनाथ, नरसिंह और पाताल भैरव (लांकड़ा वीर) के अन्य महत्वपूर्ण मंदिर भी हैं। लांकड़ा वीर को मां भगवती का गण माना जाता है। यह पवित्र मंदिर लगभग सभी ओर से सेबों के बागों से घिरा हुआ है और श्रीखण्ड की पृष्ठभूमि में इसका सौंदर्य देखते ही बनता है।

 

बुशहर राजवंश

 

सराहन गांव बुशहर रियासत की राजधानी रहा है। इस रियासत की सीमाओं में पूरा किन्नर देश आता था। मान्यता है किन्नर देश ही कैलाश है। बुशहर राजवंश पहले कामरू से सारे प्रदेश का संचालन करता था। राजधानी को स्थानांतरित करते हुए राजाओं ने शोणितपुर को नई राजधानी के रूप में चुना। कल का शोणितपुर ही आज का सराहन माना जाता है।

 

अंत में राजा राम सिंह ने रामपुर को राज्य की राजधानी बनाया। बुशहर राजवंश की देवी भीमाकाली में अटूट श्रद्धा है। सराहन में आज भी राजमहल मौजूद है। {आप यह लेख Himachali Roots || www.himachali.in पर पढ़ रहे हैं}  एक पौराणिक गाथा के अनुसार  शोणितपुर का सम्राट वाणासुर उदार दिल और शिवभक्त था जो राजा बलि के सौ पुत्रों में सबसे बड़ा था।

Bhimakali Temple , देवी भीमाकाली मंदिर परंपरा की शक्ति और इतिहास , devi bhimakali temple sarahan himachal pradesh , india , temples , himachali.in , bhimakali , kinnaur , history and facts , power , hindu , bodh , पहाड़ों पर बसे देवी भीमाकाली मंदिर की परंपरा शक्ति और इतिहास से रू-ब-रू कराने जा रहे हैं। ,बुशहर राजवंश

उसकी बेटी उषा को पार्वती से मिले वरदान के अनुसार उसका विवाह भगवान कृष्ण के पौत्र अनिरुद्ध से हुआ। परंतु इससे पहले अचानक विवाह के प्रसंग को लेकर वाणासुर और श्रीकृष्ण में घमासान युद्ध हुआ था जिसमें वाणासुर को बहुत क्षति पहुंची थी। अंत में पार्वती जी के वरदान की महिमा को ध्यान में रखते हुए असुर राज परिवार और श्रीकृष्ण में सहमति हुई। तदोपरांत पिता प्रद्युम्न और पुत्र अनिरुद्ध के वंशजों की राज परंपरा चलती रही।

महल में स्थापित भीमाकाली मंदिर के साथ अनेक पौराणिक कथाएं जुड़ी हैं जिनके अनुसार आदिकाल मंदिर के स्वरूप का वर्णन करना कठिन है परंतु पुरातत्ववेत्ताओं का अनुमान है कि वर्तमान भीमाकाली मंदिर सातवीं-आठवीं शताब्दी के बीच बना है। भीमाकाली शिवजी की अनेक मानस पुत्रियों में से एक है। मत्स्य पुराण में भीमा नाम की एक मूर्ति का उल्लेख आता है।

 

एक अन्य प्रसंग है कि मां पार्वती जब अपने पिता दक्ष के यज्ञ में सती हो गई थीं तो भगवान शिव ने उन्हें अपने कंधे पर उठा लिया था। हिमालय में जाते हुए कई स्थानों पर देवी के अलग-अलग अंग गिरे। एक अंग कान शोणितपुर में गिरा और भीमाकाली प्रकट हुई। मंदिर के ब्राह्मणों के अनुसार पुराणों में वर्णन है कि कालांतर में देवी ने भीम रूप धारण करके राक्षसों का संहार किया और भीमाकाली कहलाई। {आप यह लेख Himachali Roots || www.himachali.in पर पढ़ रहे हैं} कहा जाता है कि आदि शक्ति तो एक ही है लेकिन अनेक प्रयोजनों से यह भिन्न-भिन्न रूपों और नामों में प्रकट होती है जिसका एक रूप भीमाकाली है।

 

हिन्दू –बौद्ध शैलियों का संगम

 

सराहन में एक ही स्थान पर भीमाकाली के दो मंदिर हैं। प्राचीन मंदिर किसी कारणवश टेढ़ा हो गया है। इसी के साथ एक नया मंदिर पुराने मंदिर की शैली पर बनाया गया है। यहां 1962 में देवी मूर्ति की स्थापना हुई। इस मंदिर परिसर में तीन प्रांगण आरोही क्रम से बने हैं जहां देवी शक्ति के अलग-अलग रूपों को मूर्ति के रूप में स्थापित किया गया है। देवी भीमा की अष्टधातु से बनी अष्टभुजा वाली मूर्ति सबसे ऊपर के प्रांगण में है।

Bhimakali Temple , देवी भीमाकाली मंदिर परंपरा की शक्ति और इतिहास , devi bhimakali temple sarahan himachal pradesh , india , temples , himachali.in , bhimakali , kinnaur , history and facts , power , hindu , bodh , पहाड़ों पर बसे देवी भीमाकाली मंदिर की परंपरा शक्ति और इतिहास से रू-ब-रू कराने जा रहे हैं। ,बुशहर राजवंश

भीमाकाली मंदिर हिंदू और बौद्ध शैली में बना है जिसे लकड़ी और पत्थर की सहायता से तैयार किया गया है। पगोडा आकार की छत वाले इस मंदिर में पहाड़ी शिल्पकारों की दक्षता देखने को मिलती है। द्वारों पर लकड़ी की सुंदर छिलाई करके हिंदू देवी-देवताओं के कलात्मक चित्र बनाए गए हैं। फूल पत्तियां भी दर्शाए गए हैं। मंदिर की ओर जाते हुए जिन बड़े-बड़े दरवाजों से गुजरना पड़ता है उन पर चांदी के बने उभरे रूप में कला के सुंदर नमूने देखे जा सकते हैं। {आप यह लेख Himachali Roots || www.himachali.in पर पढ़ रहे हैं} भारत के अन्य भागों की तरह सराहन में भी देवी पूजा बड़ी धूमधाम से की जाती है, विशेषकर चैत्र और आश्विन नवरात्रों में। मकर संक्रांति, रामनवमी, जन्माष्टमी, दशहरा और शिवरात्रि आदि त्योहार भी बड़े हर्षोल्लास व श्रद्धा से मनाए जाते हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि भीमाकाली की प्राचीन मूर्ति पुराने मंदिर में ही है। हर कोई उसके दर्शन नहीं कर सकता। हिमाचल प्रदेश के भाषा व संस्कृति विभाग के एक प्रकाशन के अनुसार बुशहर रियासत तो बहुत पुरानी है ही, यहां का शैल (स्लेट वाला पत्थर) भी अत्यंत पुराना है।भूगर्भवेत्ताओं  के अनुसार यह शैल एक अरब 80 करोड़ वर्ष का है और पृथ्वी के गर्भ में 20 किलोमीटर नीचे था।

कैसे जाएँ

 

ठंडा, शीतल जलवायु वाला स्थान सराहन आज भी शायद देवी कृपा से व्यवसायीकरण से बचा हुआ है। तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को सुगमता से यहां ठहरने और खाने-पीने की सुविधाएं प्राप्त हो जाती हैं। हिमपात के समय भले ही कुछ कठिनाइयां आएं अन्यथा भीमाकाली मंदिर में वर्ष भर जाया जा सकता है। शिमला से किन्नौर की ओर जाने वाले हिंदुस्तान-तिब्बत राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 22 पर चलें तो एक बड़ा स्थान रामपुर बुशहर आता है जहां से सराहन 44 कि.मी. दूर है। कुछ आगे चलने पर ज्यूरी नामक स्थान से सराहन के लिए एक अलग रास्ता जाता है। ज्यूरी से देवी मंदिर की दूरी 17 कि.मी. है।

कुछ तथ्य

Share Some Love

Comments

comments

One Comment

  1. bheemkala bheemkala February 1, 2018

    ows

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *