जानिए लाहौल-स्पीति के उदयपुर गांव में सातवीं सदी में बने इस मृकुला देवी मंदिर का इतिहास

Mrikula devi history, mrikula mata history , lahul spiti mrikula devi history , udaipur lahul spiti himachal pradesh , Mrikula temple lahul spiti , सातवीं शताब्दी से लाहौल-स्पीति के उदयपुर गांव में बसा मृकुला देवी मंदिर

सातवीं शताब्दी से लाहौल-स्पीति के उदयपुर गांव में बसा मृकुला देवी मंदिर हिमाचल को देवभूमि से जाना जाता है। यहां के लोगों की देवी-देवताओं के प्रति गहरी आस्था है, तो वहीं इन्हीं देवी-देवताओं की यहां के लोगों पर अपार कृपा भी रहती है। हिमाचल के देवी-देवताओं का कोने-कोने में वास

Read More

देवभूमि हिमाचल के 12 जिलों में स्थित प्रमुख मंदिर एवं उनसे जुड़ी महत्त्वपूर्ण जानकारी!

Temples of himachal pradesh , all temples in himachal pradesh , famous temples of himachal pradesh , temples in hamirpur , temples in bilaspur , temples in una , temples in solan, temples in shimla, temples in sirmour , temples in mandi , temples in kullu , temples in kangra, temples in kinnaur, temples in chamba , temples in lahul spiti , हिमाचल  — को प्राचीन काल से ही देवभूमि के नाम से संबोधित किया गया है। यदि हम कहें कि हिमाचल देवी-देवताओं का निवास स्थान है तो बिल्कुल भी गलत नही होगा। हमारे कई धर्मग्रन्थों में भी हिमाचल वाले क्षेत्र का वर्णन मिलता है। महाभारत, पद्मपुराण और कनिंघम जैसे धर्मग्रन्थों में इस भू-भाग का जिक्र कई बार आता है। इस सब से हम अनुमान लगा सकते है कि यह पवित्र भूमि आदि काल से ही देवी-देवताओं की प्रिय रही है। इसलिए ऐसी पावन धरा पर जन्म लेना और यहां जीने का अवसर मिलना सौभाग्य की बात है। आज हम हिमाचल के अलग-अलग जिलो में महत्वपूर्ण मंदिरों की बात करेंगे। हमीरपुर हमीरपुर में वैसे तो अनगिनत मंदिर है परंतु इस जिले के कुछ महत्वपूर्ण मंदिर इस तरह से हैं: 1. बाबा बालक नाथ  यह मंदिर शिवालिक पहाड़ियों पे स्थित है। यह हमीरपुर के दियोटसिद्ध में स्थित है। 2. मुरली मनोहर मंदिर  यह मंदिर भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण राजा संसारचंद ने 1790 में कराया था। 3.गौरी शंकर मंदिर  यह मंदिर हमिरपुर के सुजानपुर टिहरा में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण राजा संसारचंद ने 1793 ई. में करवाया था। बिलासपुर बिलासपुर जिला प्राचीन समय में कहलूर के नाम से जाना जाता था। इस जिले के महत्वपूर्ण मंदिर है: 1. श्री नैना देवी मंदिर  यह एक बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है। न सिर्फ हिमाचल बल्कि पूरे भारत वर्ष में इसकी मान्यता है। यह इक्यावन(51) शक्तिपीठों में से एक है। मान्यता है कि यहां सती के नैन गिरे थे। इस मसन्दिर का निर्माण वीरचंद ने करवाया था। 2. गोपाल जी मंदिर  यह मंदिर भी भगवान मदन गोपाल को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण राजा आनंद चंद ने 1938 ई. में करवाया था। 3. देवभाटी मंदिर  देवभाटी मंदिर ब्रह्मपुखर का निर्माण राजा दीपचंद ने करवाया था। ऊना ऊना जिले के लोग बड़े धार्मिक विचारों के है। यहां के विभिन्न मंदिर इस प्रकार है: 1. चिंतपूर्णी मंदिर यह मंदिर भी हिमाचल में ही नही अपितु भारत वर्ष में प्रसिद्ध है। यह भी एक महत्वपूर्ण शक्तिपीठ है ऐसी मान्यता है कि यहाँ माता का मस्तक गिरा था। इसलिए माता को छिन्नमस्ता भी कहते हैं। कुछ मान्यताएं कहती हैं कि यहां देवी के चरण गिरे थे। 2.भ्रमोति यह मंदिर भगवान ब्रह्मा को समर्पित है। आप मे से बहुत कम इसके बारे में जानते होंगे क्योंकि ब्रह्मा जी के पूरे संसार मे केवल दो ही मंदिर है एक पुष्कर राजस्थान व दूसरा यहां ऊना में, परन्तु ये पुष्कर जितना प्रसिद्ध नहीं है। 3.गरीब नाथ यह मंदिर बहुत ही सुंदर जगह पर है। यह मंदिर सतलुज नदी के भीतर बना हुआ है तथा मंदिर में जाने के लिए नाव पे जाना पड़ता है। यहां पर शिवजी की भी एक बहुत ही सुंदर प्रतिमा है। सोलन सोलन में बहुत मंदिर है आपको यह जानकर खुशी होगी कि सोलन शहर का नाम वहां की देवी शूलिनी के नाम पर ही पड़ा है। यहां के प्रमुख मंदिर है: 1. शूलिनी देवी  यह मंदिर सोलन में ही स्थित है। हर वर्ष यहां पर शूलिनी माता का मेला लगता है। यह मेला एक सप्ताह तक चलता है। 2.जटोली मंदिर  यह मंदिर ओचघाट के समीप है। यह एशिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर माना जाता है। इसका नाम शिव की लम्बी लम्बी जटाओं से पड़ा है। 3. काली का टिब्बा  यह सोलन के चैल में स्थित काली देवी का मंदिर है। यहाँ से आप चुरचांदनी और शिवालिक पहाड़ियों का मनोरम दृश्य देख सकते है। सिरमौर सिरमौर में हिमाचल के काफी पवित्र स्थान है यहाँ भगवान परशुराम की माता रेणुका जी का मंदिर है व ऐसी मान्यता है कि वे यहां झील के रूप मे हैं।अन्य मुख्य मंदिर इस प्रकार है: 1. शिर्गुल मंदिर यह मंदिर चूड़धार पहाड़ी पर स्थित है।यह मंदिर भगवान शिर्गुल को समर्पित है। यह बहुत ही ऊंचाई पर स्थित है लगभग 3647 मी. ,यहां भगवान शिव की प्रतिमा है। 2. गायत्री मंदिर गायत्री माता को वेदों की माता भी कहा जाता है। यह मंदिर रेणुका में स्थित है। इस का निर्माण महात्मा पराया नंद ब्रह्मचारी ने करवाया था। 3. बाला सुंदरी मंदिर यह मंदिर सिरमौर के त्रिलोकपुर में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण दीप प्रकाश ने 1573 ई. में करवाया था यरह माता बाल सुंदरी को समर्पित है। मंडी मंडी को हिमाचल की छोटी काशी भी कहते है। यहाँ पर इक्यासी(81) मंदिर है जबकि वाराणसी में अस्सी(80) मंदिर है। जिले के मुख्य मंदिर इस प्रकार है: 1. भूतनाथ मंदिर राजा अजबर सेन ने इस मंदिर का निर्माण 1526 ई. में करवाया था।यह मंदिर मंडी में स्थित है। 2 श्यामाकाली मंदिर यह मन्दिर मंडी में स्थित है तथा इसका निर्माण राजा श्यामसेन ने करवाया था। 3 पराशर मंदिर यह मंदिर बाणसेन ने बनवाया था। यह मंडी की प्रसिद्ध झील पराशर के किनारे स्थित है। शिमला हिमाचल की राजधानी शिमला तो आप सब से परिचित ही है। आप सब को यह जान कर हैरानी होगी कि शिमला का नाम भी किसी देवी के नाम पर पड़ा है। जी हाँ शिमला का नाम श्यामला देवी से पड़ा है। श्यामला देवी भगवती काली का दूसरा नाम है। यहाँ के प्रमुख मंदिर है: 1. जाखू मंदिर ऐसी मान्यता है कि जब श्री हनुमान जी लक्ष्मण के लिए संजीवनी बूटी लेने गए थे तो उन्होंने यहां पर विश्राम किया था।यह मंदिर शिमला के जाखू में स्थित है। यह भगवान हनुमान जी को समर्पित है।यहाँ हनुमान जी की 108 फुट ऊंची मूर्ति बनाई गई है। 2. सूर्य मंदिर यह मंदिर भगवान सूर्य को समर्पित है। कोणार्क के बाद ये दूसरा सूर्य मंदिर है भारत में। यह शिमला के ‘नीरथ ‘ में स्थित है। 3 कालीबाड़ी मंदिर यह मंदिर शिमला में स्थित है। यह मंदिर काली माता को समर्पित है।इन्हें ही श्यामला देवी भी कहा जाता है। इन्ही के नाम पर शिमला शहर का नामकरण हुया है। कुल्लू कुल्लू में बहुत देवी देवताओं ने वास किया था। कुल्लू राजवंश की कुल देवी माता हिडिम्बा को माना जाता है। निरमण्ड को कुल्लू की छोटी काशी कहते हैं।यहाँ के मुख्य मंदिर इस प्रकार है: 1. हिडिम्बा देवी हिडिम्बा देवी का मंदिर मानाली में स्थित है जिसे कुल्लू के राजा बहादुर सिंह ने 1553 ई. में बनवाया था। हिडिम्बा देवी भीम की पत्नी थी। यह मंदिर पैगोडा शैली का बना हुआ है। इस मंदिर में हर वर्ष मई के महीने में डूंगरी मेला लगता है। 2. बिजली महादेव मंदिर यह मंदिर कुल्लू से 14 किलोमीटर दूर ब्यास नदी के किनारे स्थित है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है यहां शिवलिंग पर बिजली गिरती है। 3. जामलु मंदिर यह मंदिर विश्व प्रसिद्ध मलाणा गांव में स्थित है। मलाणा गांव में पूरे विश्व का सबसे पुराना लोकतंत्र आज भी मन जाता है। यह मंदिर जमदग्नि ऋषि को समर्पित है। कांगड़ा कांगड़ा जिला भी पूरे भारतवर्ष में प्रसिद्ध है यहाँ का ब्रृजेश्वरी मन्दिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु आते है व उनकी कई मनोकामनाएं पूर्ण होती है।यहाँ के मुख्य मंदिर इस प्रकार है: 1. बृजेश्वरी मंदिर यह मंदिर 51 शक्ति पीठो में से एक है। यहां माता सती का धड़ गिरा था। यह मंदिर कांगड़ा बस स्टॉप से 3 कम की दूरी पर स्थित है। 2. मसरूर मंदिर इस मंदिर को रॉक कट मंदिर भी कहते है। यह पांडवो द्वारा निर्मित बहुत ही प्राचीन मंदिर है। यह भगवान शिव को समर्पित है। इसे हिमाचल का अजंता भी कहते है।यह मंदिर कांगड़ा के नगरोटा सूरियां में स्थित है। 3. ज्वालामुखी मंदिर यह भी 51 शक्तिपीठों में से एक एक है।यहाँ माता सत्ती की जीभ गिरी थी। अकबर ने यहाँ सोने का छतर चढ़ाया था जो माता ने स्वीकार नहीं किया व वह किसी अन्य धातु में परिवर्तित हो गया। महाराजा रणजीत सिंह ने यहाँ 1813 ई . में स्वर्ण जल का गुम्बद बनवाया था। यह कांगड़ा जिले के ज्वालामुखी में स्थित है। किन्नौर यहाँ हिमाचल के अति प्राचीन मंदिर मिलते है।ऐसा मानना है कि पांडव अपने अज्ञात वास के दौरान यहाँ रहे थे।यहाँ के मंदिरों में मुख्यता लकडी व पत्थरो पे शिल्प के नमूने मिलते है।यहाँ के मुख्य ममंदिर इस प्रकार है: 1.चंडिका मंदिर यह मंदिर किन्नौर के कोठी में स्थित है तथा यह माता चंडिका को समर्पित है। चंडिका बाणासुर की पुत्री थी। चंडिका माता को दुर्गा माता का स्वरूप माना जाता है। 2. माठि देवी मंदिर यह मंदिर छितकुल जो भारत का आखिरी गांव है वहाँ स्थित है। छितकुल गांव के लोग माठि देवी को बहुत मानते है। 3. मोरंग मंदिर किन्नौर यह पांडवो द्वारा निर्मित बहुत ही सुंदर मन्दिर है। यह पहाड़ की चोटी पर स्थित है तथा प्राचीन समय में पांडवो ने इस के निर्माण करवाया था। किन्नौर के लोग आज भी इस मंदिर को बड़ा मानते है। चम्बा चम्बा जिला को शिव भूमि भी कहा जाता है।यहाँ शिव जी का निवास स्थान मणिमहेश भी है।हर वर्ष लोग मणिमहेश की यात्रा में बड़ चड कर भाग लेते है।यह यात्रा मुख्यता जुलाई -अगस्त मास में होती है।यहां के अन्य मुख्य मंदिर है: 1. लक्ष्मी देवी मंदिर इस मंदिर का निर्माण साहिल वर्मन द्वारा कराया गया था।यह चम्बा में स्थित है।यह मुख्यता छह मंदिरो का समूह है। 2 . सुई माता मंदिर यह मंदिर माता नैना देवी जो साहिल वर्मन की पत्नी थी उनको समर्पित है।माता नैना देवी ने चम्बा में पानी लाने के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया था।यहाँ हर वर्ष उनकी याद में सुई मेला लगता है। 3. मणिमहेश मंदिर इस मन्दिर का निर्माण मेरु वर्मन ने करवाया था।चम्बा के भरमौर में चौरासी मंदिरो का समूह भी है।मणिमहेश यात्रा के समय इन मंदिरो के दर्शन जरूर करते है श्रद्धालु। लाहौल स्पीति लाहौल स्पीति हिमाचल का सबसे दुर्गम व सबसे बड़ा जिला है। यहाँ के लोग मुख्यता हिन्दू व बौद्ध धर्म को मानते है।यहाँ के प्रसिद्ध मंदिर इस प्रकार है: 1. मृकुला देवी यह मंदिर लाहौल के उदयपुर में स्थित है।इस मंदिर का निर्माण अजय वर्मन द्वारा करवाया गया था।यह मुख्यता लकड़ी से बना हुआ मंदिर है। 2. त्रिलोकीनाथ मंदिर यह मंदिर लाहौल स्पीति के उदयपुर में स्थित है। यहाँ पर अविलोकतेश्वर की मूर्ति है। यह मंदिर हिंदुयों और बोध दोनों सम्प्रदायों के लिए पूजनीय है। 3. गुरु घंटाल गोम्पा Gandhola Monastery लाहौल के तुपचलिंग गांव में स्थित है। यहाँ अविलोकतेश्वर की 8 वीं शताब्दी की मूर्ति है जिसका निर्माण पद्मसंभव नर करवाया था। यहाँ हर वर्ष जून माह में घंटाल उत्सव मनाया जाता है

हिमाचल  — को प्राचीन काल से ही देवभूमि के नाम से संबोधित किया गया है। यदि हम कहें कि हिमाचल देवी-देवताओं का निवास स्थान है तो बिल्कुल भी गलत नही होगा। हमारे कई धर्मग्रन्थों में भी हिमाचल वाले क्षेत्र का वर्णन मिलता है। महाभारत, पद्मपुराण और कनिंघम जैसे धर्मग्रन्थों में

Read More

हिमाचल में यहां है पांडवों द्वारा निर्मित बेजोड़ कला का नमूना रॉक कट मसरूर मंदिर!

पांडवों द्वारा निर्मित बेजोड़ कला का नमूना रॉक कट मसरूर मंदिर - Himachali Roots , हिमाचल में यहां है पांडवों द्वारा निर्मित बेजोड़ कला का नमूना रॉक कट मसरूर मंदिर , Rock Cut Temple Himachal Pradesh , Rock Cut Temple Kangra , Ajanta and Ellora of Himachal , Rock Cut Masroor Temple , temples of himachal pradesh

हिमाचल प्रदेश की धरती दार्शनिक स्थलों व देवस्थलों के कारण विश्वभर में प्रसिद्ध है।  ऐसा ही एक धार्मिक स्थल  नगरोटा सूरियां से तकरीबन 11 किलोमीटर की दूरी पर मसरूर पंचायत में स्थित है जोकि रॉक कट टेंपल के नाम से प्रसिद्ध है। इस मंदिर को पांडवों द्वारा अपने अज्ञातवास के दौरान

Read More

आइये पढ़ें पुराणों में छिपी इस कथा में शनिदेव की दृष्टि नीचे रहने का रहस्य

आइये पढ़ें पुराणों में छिपी इस कथा में शनिदेव की दृष्टि नीचे रहने का रहस्य , Shani-Dev-From-Mandi-District , shani dev temple , shani dev facts , saturan planet facts, jyotishi , shani bhagwan , lord shani , shani dev story , shani dev ki kahani

शनिदेव – कैसे हुआ जन्म और कैसे टेढ़ी हुई नजर अक्सर शनि का नाम सुनते ही शामत नजर आने लगती है, सहमने लग जाते हैं, शनि के प्रकोप का खौफ खा जाते हैं। कुल मिलाकर शनि को क्रूर ग्रह माना जाता है लेकिन असल में ऐसा है नहीं। ज्योतिषशास्त्र के

Read More

शेषनाग की हुंकार से आज तक उबलता है यहाँ का पानी, जानिए क्या है मणिकर्ण के इस चमत्कार का रहस्य

शेषनाग की हुंकार से आजतक उबलता है यहाँ का पानी, जानिए क्या है मणिकर्ण के इस चमत्कार का रहस्य, manikaran hot water spring , manali , kullu , himachal , india

दोस्तो शुरू करने से पहले ही मैं बता दूँ , मणिकर्ण की इस कहानी से हमारा मतलब अन्धविश्वास फैलाना बिलकुल भी नहीं हैं एवं इस कहानी में हमनें अपनी तरफ से कोई भी रहस्य नहीं जोड़े हैं. जो कहानी आप पढ़ने जा रहे वो मणिकर्ण तीर्थ स्थल पर लिखी हुई है। ना तो हम

Read More

श्राई कोटि माता मंदिर- यहां पति-पत्नी एक साथ नहीं कर सकते दर्शन, शिव पुत्रों से जुडी है कहानी

Sri Koti Mata Temple Himachal History in Hindi , shree koti , sree koti , श्राई कोटि माता मंदिर- यहां पति-पत्नी एक साथ नहीं कर सकते मां दुर्गा के दर्शन, शिव पुत्रों से जुडी है कहानी

श्राई कोटि माता मंदिर- यहां पति-पत्नी एक साथ नहीं कर सकते मां दुर्गा के दर्शन, शिव पुत्रों से जुडी है कहानी Shrai Koti Mata Temple Himachal History in Hindi : श्राई कोटि माता मंदिर से जुड़ा इतिहास   भारत में अनेकों ऐसे मंदिर है जो अपनी अनोखी परंपराओं के कारण प्रसिद्ध है। हमने अपने

Read More

मान्यता है कि यह आठ शिवलिंग महाभारत काल से पांडवों द्वारा स्थापित हैं

लाखामंडल उत्तराखंड (Lakhamandal Temple Shivling, Uttarakhand) मान्यता है कि लाक्षागृह से बच निकलने के बाद पांडव बहुत समय तक यहां रुके थे। इसी दौरान यहां के शिवलिंग की स्थापना की गई थी।

भारत के विभिन्न प्रांतों में कई ऐसे शिवलिंग मौजूद हैं जिनकी स्थापना महाभारत काल में हुई थी। इनमें से कई शिवलिंग ऐसे हैं जिनके बारे में मान्यता है कि इनकी स्थापना स्वयं पांडवों ने की थी। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ शिवलिंगों के बारे में: 1. गंगेश्वर महादेव, दीव

Read More

सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये अद्भुत चमत्कारी शिवलिंग

5 shivlingas , सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये 5 शिवलिंग, हिमाचल का यह शिवलिंग भी है इनका हिस्सा!

पूरी दुनिया में करोड़ों शिवलिंग मौजूद हैं, सभी की अपनी मान्यता और महत्व है। कुछ शिवलिंग अपने इतिहास के कारण प्रसिद्ध हैं तो कुछ अपने से जुड़े चमत्कारों के कारण। भारत में ऐसे ही 5 शिवलिंग हैं, जो बहुत खास माने जाते हैं। ये 5 शिवलिंग इसलिए खास हैं क्योंकि

Read More

एक गुफा में है गणेश जी के कटे हुए स‌िर का रहस्य

patal-bhuvneshwar-lord-ganesha-cave-temple , अनोखी गुफा, यहां आज भी मौजूद है गणेश जी का कटा हुआ सर - Himachali Roots , lord ganesha cut head is still kept in this cave, lord ganesha cave , patal bhuvaneshwar lord ganesha cave , lord shiva, एक गुफा में है गणेश जी के कटे हुए स‌िर का रहस्य

हिंदू धर्म में भगवान गणेश जी को प्रथम पूज्य माना गया है। गणेश जी के जन्म के बारे में कई कथाएं प्रचलित हैं। कहा जाता है कि एक बार भगवान शिव ने क्रोधवश गणेश जी का सिर धड़ से अलग कर दिया था, बाद में माता पार्वतीजी के कहने पर

Read More