हिमाचली सरकारी स्कूलों के छात्रों को अब फ्री मिलेगी IIT-JEE और NEET कोचिंग

हिमाचल के सरकारी स्कूलों में नौवीं से जमा दो कक्षा तक पढ़ने वाले विद्यार्थियों को सरकार आईआईटी, जेईईई और नीट की मुफ्त कोचिंग दिलाएगी। शिक्षा विभाग ‘क्वेश्चन बैंक’ तैयार करेगा, जिससे स्वयं सिद्धम पोर्टल के माध्यम से विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर सकेंगे।

इस पहल से विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए भारी भरकम फीस चुकाने से छुटकारा मिल जाएगा। राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत स्वयं सिद्धम पोर्टल पर प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए स्टडी मैटीरियल और ‘क्वेश्चन बैंक’ दिया जाएगा। विद्यार्थी ऑनलाइन शिक्षकों से सवाल- जवाब कर सकेंगे।

हिमाचली सरकारी स्कूलों के छात्रों को अब फ्री मिलेगी IIT-JEE और NEET कोचिंग

नौवीं से ही विद्यार्थियों को जमा दो कक्षा के बाद होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार किया जाएगा। स्वयं सिद्धम पोर्टल से इंजीनियरिंग और मेडिकल क्षेत्र की परीक्षाओं के लिए विद्यार्थियों को तैयार किया जाएगा।

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना निदेशक घनश्याम चंद ने बताया है कि ‘क्वेश्चन बैंक’ तैयार करने के लिए सभी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।

पांच चरणों में होगा ‘क्वेश्चन बैंक’

‘क्वेश्चन बैंक’ पांच चरणों में तैयार किया जाएगा। इसे खेल की तरह बनाया जाएगा। पहले चरण में 50 फीसदी सवालों के सही जवाब देने के बाद ही दूसरे चरण में विद्यार्थी प्रवेश कर सकेंगे। तर्क दिया गया है कि इससे विद्यार्थियों में अगले चरण में जाने के लिए जिज्ञासा बनेगी।

लॉग इन आईडी बनाकर उठा सकेंगे लाभ

स्वयं सिद्धम पोर्टल से दी जाने वाली इस विशेष सुविधा को प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों का एक लॉग इन आईडी बनाया जाएगा। इस आईडी से विद्यार्थी घर और स्कूल दोनों जगह इसका प्रयोग कर सकेंगे। स्कूलों में बनाई गई आईसीटी लैब में जाकर विद्यार्थी इसे प्रयोग कर सकेंगे।

टेंडर के लिए मांगी मंजूरी

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना कार्यालय ने ‘क्वेश्चन बैंक’ तैयार करने का टेंडर जारी करने के लिए चुनाव आयोग से मंजूरी मांगी है। टेंडर प्रक्रिया में नामी प्रशिक्षण संस्थानों को शामिल करने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। चुनाव आयोग से मंजूरी मिलते ही टेंडर जारी किए जाएंगे।

Job Notifications:


द्वापर युग से चली आ रही यह परंपरा आज भी जीवित है इस हिमाचली गांव में, गांव में बारिश करवाने के लिए इस शख्स की होगी परीक्षा, नहीं हुई तो जाएगी कुर्सी:

देवभूमि हिमाचल में किसान-बागवान दैवीय शक्तियों को प्रसन्न कर बारिश की गुहार लगा रहे हैं। द्वापर युग से चली आ रही यह परंपरा मंडी जिले की कमरूघाटी में आज भी जीवंत है। दिसंबर 2017 तक बारिश न होने पर किसानों ने बड़ा देव कमरूनाग की शरण में जाने की तैयारी ……Continue Reading!

Share Some Love

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Posted by: Admin Himachali Roots on

Tags: