सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये अद्भुत चमत्कारी शिवलिंग

पूरी दुनिया में करोड़ों शिवलिंग मौजूद हैं, सभी की अपनी मान्यता और महत्व है। कुछ शिवलिंग अपने इतिहास के कारण प्रसिद्ध हैं तो कुछ अपने से जुड़े चमत्कारों के कारण। भारत में ऐसे ही 5 शिवलिंग हैं, जो बहुत खास माने जाते हैं।

ये 5 शिवलिंग इसलिए खास हैं क्योंकि हर साल इनकी लम्बाई अपने आप चमत्कारिक रूप से बढ़ती जा रही है। कैसे बढ़ रही है इन शिवलिंगों की लम्बाई यह विज्ञान के लिए भी रहस्य की बात है। जानिए कौन से हैं वे 5 चमत्कारी शिवलिंग और उनसे जुड़ी मान्यताएं-

 

1) पौड़ावाला शिव मंदिर, हिमाचल प्रदेश (Paudiwala Shiv Temple, Himachal Pradesh)

सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये 5 शिवलिंग, हिमाचल का यह शिवलिंग भी है इनका हिस्सा! , पौड़ावाला शिव मंदिर, हिमाचल प्रदेश (Paudiwala Shiv Temple, Himachal Pradesh)

ह‌िमाचल प्रदेश में नाहन से लगभग 8 क‌िलोमीटर की दूरी पर पौड़ीवाला श‌िव मंद‌िर है। इसका संबंध रावण से माना जाता है। कहते हैं क‌ि रावण ने इसकी स्‍थापना की थी। इसे स्वर्ग की दूसरी पौड़ी के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी मान्यता है क‌ि हर वर्ष महाश‌िवरात्र‌ि पर यह श‌िवल‌िंग एक जौ के दाने के बराबर बढ़ता है। ऐसी धारणा है क‌ि इस श‌िवल‌िंग में साक्षात श‌िव व‌िराजते हैं और भक्तों की मनोकामना पूरी करते हैं।

 

2) तिल भांडेश्वर, काशी (Tilbhandeshwar Mahadev Mandir, Kashi)

सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये 5 शिवलिंग, हिमाचल का यह शिवलिंग भी है इनका हिस्सा! , तिल भांडेश्वर, काशी (Tilbhandeshwar Mahadev Mandir, Kashi)

भगवान श‌िव की नगरी काशी में कई श‌िव प्रसिद्ध शिव मंद‌िर है, इनमें एक है बाबा त‌िल भांडेश्वर। कहते हैं यह सतयुग में प्रकट हुआ स्वयंभू श‌िवल‌िंग है। कल‌युग से पहले तक यह श‌िवल‌िंग हर द‌िन त‌िल आकार में बढ़ता था। लेक‌िन कलयुग के आगमन पर लोगों को यह च‌िंता सताने लगी क‌ि यह इसी आकार में हर द‌िन बढ़ता रहा तो पूरी दुन‌िया इस श‌िवल‌िंग में समा जाएगी। भगवान श‌िव की आराधाना करने पर भगवान श‌िव ने प्रकट होकर साल में केवल संक्रांति पर ही इसके बढ़ने का वरदान दिया। कहते हैं उस समय से हर साल मकर संक्रांत‌ि पर इस श‌िवल‌िंग का आकार बढ़ता है।

 

3) मतंगेश्वर शिवलिंग, मध्यप्रदेश (Matangeshwar Shivling, Madhya Pradesh)

सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये 5 शिवलिंग, हिमाचल का यह शिवलिंग भी है इनका हिस्सा! , मतंगेश्वर शिवलिंग, मध्यप्रदेश (Matangeshwar Shivling, Madhya Pradesh)

मध्यप्रदेश के खजुराहो का मतंगेश्वर श‌िवल‌िंग ज‌िसके बारे में मान्यता है क‌ि भगवान श्री राम ने भी यहां पूजा की है। 18 फीट के इस श‌िवल‌िंग के बारे में कहा जाता है क‌ि हर साल यह त‌िल के आकार में बढ़ रहा है।

 

4) भूतेश्वर महादेव, छत्तीसगढ़ (Bhuteshwar Mahadev Shivling, Chhattisgarh)

सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये 5 शिवलिंग, हिमाचल का यह शिवलिंग भी है इनका हिस्सा! , भूतेश्वर महादेव, छत्तीसगढ़ (Bhuteshwar Mahadev Shivling, Chhattisgarh)

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित गरियाबंद जिला में एक प्राकृतिक शिवलिंग है, ज‌िसे भूतेश्वर महादेव कहा जाता है। इसे भकुर्रा महादेव के नाम से भी जाना जाता है। मान्यता है क‌ि हर साल यह शिवलिंग 6-8 इंच तक बढ़ जाता है। कहते हैं यहां पर भक्तों की मनोकामना जरूर पूरी होती है, मनोकामना पूरी होने पर दौबारा यहां आकर भगवान को धन्यवाद करने की परंपरा है।

 

5) मृदेश्वर महादेव मंदिर, गुजरात (Mardeshwar Mahadev Temple, Gujarat)

सदियों से निरंतर बढ़ रहे ये 5 शिवलिंग, हिमाचल का यह शिवलिंग भी है इनका हिस्सा! , मृदेश्वर महादेव मंदिर, गुजरात (Mardeshwar Mahadev Temple, Gujrat)

गुजरात के गोधरा में स्थित मृदेश्वर महादेव के बढ़ते शिवलिंग के आकार को प्रलय का संकेत माना जाता है। इस शिव लिंग के विषय में मान्यता है कि जिस दिन लिंग का आकार साढ़े आठ फुट का हो जाएगा उस दिन यह मंदिर की छत को छू लेगा। जिस दिन ऐसा होगा उसी दिन महाप्रलय आ जाएगा। शिवलिंग को मंदिर की छत छूने में लाखों वर्ष लग सकते हैं क्योंकि शिवलिंग का आकार एक वर्ष में एक चावल के दाने के बराबर बढ़ता है।

 

मृदेश्वर शिवलिंग की विशेषता है कि इसमें से स्वतः ही जल की धारा निकलती रहती है जो शिवलिंग का अभिषेक कर रही है। इस जल धारा में गर्मी एवं सूखे का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है, धारा अविरल बहती रहती है।

 


make your website , Make your own website at cheapest rates. make your own website at 1200 indian rupees. create your own website , start your own website, create your own website for free


आपको ये लेख कितना पसंद आया या इस से सम्बंधित कोई सुझाव हो तो आप हमें कमैंट्स में बता सकते हैं अन्यथा आप हमें इस पते पर मेल भी कर सकते हैं: admin@himachali.in

अगर आप भी लिखने के शौकीन हैं या आपके पास कोई लेख हो शेयर करने के लिए तो आप यहाँ पे क्लिक करके हमें अपना लेख तुरंत भेज सकते हैं:

Submit Your Article





 

इसे भी पढ़िए:

 

बिजली महादेव कुल्लू -हर बारह साल में शिवलिंग पर गिरती है बिजली

भारत में भगवन शिव के अनेक अद्भुत मंदिर है उन्हीं में से एक है हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में स्तिथ बिजली महादेव। कुल्लू का पूरा इतिहास बिजली महादेव से जुड़ा हुआ है। कुल्लू शहर में ब्यास और पार्वती नदी के संगम के पास एक ऊंचे पर्वत के ऊपर बिजली महादेव….Read More!

 

हिमाचल के ममलेश्वर महादेव मंदिर में है 5 हजार साल पुराना भीम का ढोल और 200 ग्राम का गेंहू का दाना

क्या आपने कभी 200 ग्राम वजन का गेंहूं का दाना देखा है वो भी महाभारत काल का यानी की 5000 साल पुराना? यदि नहीं तो आप इसे स्वयं अपनी आँखों से देख सकते है , इसके लिए आपको जाना पड़ेगा ममलेश्वर महादेव मंदिर जो की हिमाचल….Read More!

 

यह हैं किन्नर कैलाश/हिमाचल का बदरीनाथ, चमत्कारी शिवलिंग दिन में कई बार बदलता है रंग

तिब्बत स्थित मानसरोवर कैलाश के बाद किन्नर कैलाश को ही दूसरा बडा कैलाश पर्वत माना जाता है। सावन का महीना शुरू होते ही हिमाचल की खतरनाक कही जाने वाली किन्नर कैलाश यात्रा शुरू हो जाती है।इस यात्रा के बारे में कहा जाता है कि इस यात्रा को अपने जीवन काल में….Read More!

 

रावण ले जाना चाहता था इस शिवलिंग को, पढ़ें ऐसी है बैजनाथ मंदिर की पूरी कहानी

बैजनाथ शिव मंदिर हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा ज़िले में शानदार पहाड़ी स्थल पालमपुर में स्थित है। 1204 ई. में दो क्षेत्रीय व्यापारियों ‘अहुक’ और ‘मन्युक’ द्वारा स्थापित बैजनाथ मंदिर पालमपुर का एक प्रमुख आकर्षण है और यह शहर से 16 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। हिन्दू देवता शिव को….Read More!

 

काठगढ़ महादेव, यहां है अदभुत आधा शिव आधा पार्वती रूप शिवलिंग, दो भागों का शिवरात्रि पर हो जाता है ‘मिलन’

काठगढ़ महादेव,  अर्धनारीश्वर अदभुत: शिवलिंग   धार्मिक दृष्टि से पूरा संसार ही शिव का रूप है। इसलिए शिव के अलग-अलग अद्भुत स्वरूपों के मंदिर और देवालय हर जगह पाए जाते हैं। ऐसा ही एक मंदिर स्थित है – हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित काठगढ़ महादेव । इस मंदिर….Read More

 

 

Share Some Love

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Posted by: Admin Himachali Roots on

Tags: , , , , , , , , , , , , , , ,