हिमाचल के मंडी जिले में पुरोहित की एक गलती से हत्यादेवी बन गई थी राजकुमारी

हिमाचल के मंडी जिले में स्थित रहस्यमयी हत्यादेवी का मंदिर, पुरोहित की एक गलती से यहां हत्यादेवी बन गई थी राजकुमारी….

हिमालय की गोद में बसे इस मंदिर का यह रहस्यमयी कक्ष साल में सिर्फ एक दिन के लिए ही खुलता है। यहां राजकुमारी के साथ कुछ ऐसा हुआ था कि वह हत्यादेवी बन गई थी। हत्यादेवी की एक गांव पर असीम कृपा है जबकि एक गांव के लोग यहां जाने से भी डरते हैं। आइए जानते हैं पूरी कहानी-

हत्यादेवी मंदिर हिमाचल के मंडी में स्थित है। इस जिले को पहले सुकेत नाम से जाना जाता था। मनोरम पहाड़ों के बीच बसे छोटे से गांव पागंणा में ही महामाया देवी कोट का मंदिर है। कहते हैं सुकेत रियासत की कमान राजा रामसेन के पास थी। राजा की बेटी यानि राजकुमारी चंद्रावती थी जो कि बचपन से ही शिव पार्वती की अनन्य भक्त थी।

सर्दी के मौसम में एक बार राजकुमारी अपने महल में सहेलियों के साथ खेल रही थी। खेल खेल में एक सहेली ने पुरूष रूप धारण कर लिया। इसी दौरान राज पुरोहित यहां से गुजरा। उसे लगा कि राजकुमारी चंद्रावती किसी अज्ञात युवक के साथ खेल रही है।  {आप यह हत्यादेवी की कथा Himachali Roots पर पढ़ रहे हैं}पुरोहित तुरंत राजा के पास गया और पूरी बात बता दी जिससे राजा क्रोधित हो गए।

लोकलाज से चिंतित राजा ने फौरन चंद्रावती को शीतकालीन राजधानी पांगणा भेज दिया। चंद्रावती ने अपना अपमान समझा और खुद को पवित्र साबित करने के लिए खौफनाक कदम उठा लिया। चंद्रावती ने रती नाम का विषैला बीज एक शिला पर पीसकर खा लिया जिससे उसकी मौत हो गई। यह शिला आज भी पांगणा में मौजूद है।

Hatya Devi Temple, Hatyadevi mandir mani himachal pradesh, हिमाचल के मंडी जिले में स्थित रहस्यमयी हत्यादेवी का मंदिर, पुरोहित की एक गलती से यहां हत्यादेवी बन गई थी राजकुमारी....

कैसे बनी हत्यादेवी  

प्राण त्यागने के बाद देवी चद्रावंती उसी रात अपने पिता राजा रामसेन के सपने में आई और उन्हें पूरी कहानी बताई। देवी ने कहा कि मेरे मृत शरीर को महामाया देवी कोट मंदिर पांगणा के परिसर में दबाया जाए। इसे छह माह बाद दोबारा से जमीन से बाहर निकालना। अगर मैं पवित्र हूं तो मेरा शरीर उस समय भी पूरी तरह से यथावत रहेगा और यदि पवित्र नहीं तो यह पूरी तरह से गल सड़ जाएगा।

राजा ने सुबह फौरन राज पुरोहित सहित रियासत के ज्योतिषियों को बुलाया और अपने सपने के बारे में बताया। उनके परामर्श पर राजा तुरंत पांगणा के लिए रवाना हुए। यहां पहुंचने पर उन्हें पता चला कि चंद्रावती ने आत्महत्या कर ली है। इसके बाद राजा ने चंद्रावती के कहे अनुसार उनके शरीर को महामाया मंदिर के परिसर में ही दबा दिया।

ठीक 6 माह के बाद जब जमीन खोदी गई तो राजकुमारी का शरीर पूरी तरह से सु‌रक्षित निकला। इससे सिद्ध हो गया कि चंद्रावती पवित्र थी और पुरोहित की बात गलत थी। चंद्रावती की इच्छा के अनुसार उनके शव का पांगणा के समीप चंदपुर स्‍थान पर अंतिम संस्कार किया गया। {आप यह हत्यादेवी की कथा Himachali Roots पर पढ़ रहे हैं}इसी स्‍थान पर शिव पार्वती का मंदिर भी बनाकर शिवलिंग की स्‍थापना की गई जिसे आज दक्षिणेश्वर महादेव के नाम से जाता जाता है।

आगे जानें पुरोहित को क्या सजा मिली-

वहीं, राजा रामसेन उन्माद से पीड़ित हो गए और उनकी इससे मौत हो गई। मगर इससे पहले उन्होंने झूठी शिकायत करने वाले पुरोहित को सजा के तौर पर राजधानी से बाहर निकालकर चुराग नामक स्‍थान पर भेज दिया जहां पर पानी से लेकर हर वस्तु का अभाव था। उनके वशंज आज इस क्षेत्र में लठूण कहे जाते हैं। कहते हैं आज तक पुरोहित के वशंज माता के कोप के डर से महामाया देवी कोट मंदिर में प्रवेश करने की हिम्मत नहीं कर पाते। उन्हें डर है कि कहीं देवी चंद्रावती उनके पूर्वजों द्वारा किए गए कृत्य की सजा उन्हें न दें।

उसी समय से आज तक दशकों से महामाया देवी कोट मंदिर पांगणा के कलात्‍मक छह मंजिला भवन के भूतल भाग में वामकक्ष यानि बाईं तरफ बने मंदिर में देवी चंद्रावती की हत्यादेवी के रूप में पूजा की जाती है। {आप यह लेख Himachali Roots पर पढ़ रहे हैं} हालांकि यह मंदिर साल भर बंद ही रहता है और विशेष उपलक्ष्य में ही इसे खोला जाता है। मगर आज भी सुकेत राजवंश सहित इस गांव के लोगों पर देवी की अपार कृपा है।

Job Notifications:


इस मंदिर में मां की पिंडियों पर नहीं टिकती बर्फ, कई नामी हस्तियों ने भी मांगी थी मन्‍नत….

हिमाचल के मंडी जिले की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित मां शिकारी देवी अपने मंदिर में छत सहन नहीं करती है। माता शिकारी देवी खुले आसमान के नीचे विराजमान रहने में खुश रहती हैं। बारिश हो, आंधी हो, तूफान हो, मां खुले आसमान के नीचे रहना ही पसंद करती हैं। रोचक पहलू तो यह है कि माता की पिंडियों पर कभी भी बर्फ नहीं टिकती है। इस बार भी वैसा ही हुआ है।

16 नवंबर के बाद बर्फबारी हुई, लेकिन मां की पिंडियों पर बर्फ नहीं टिकी।  11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित माता शिकारी देवी मंदिर हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करता है। शिकारी देवी मंदिर परिसर में चौसठ योगनियों का वास है जो सर्व शक्तिमान है। मंडी जनपद में शिकारी देवी को सबसे शक्तिशाली माना जाता है।

देवी के दरबार में प्रदेश ही नहीं अन्य राज्यों से भी श्रद्धालु देवी के दरबार शीश नवाने दूर दूर से पहुंचते हैं। शिकारी देवी मंदिर और शिकारी धार की मनोरम वादियां पर्यटकों और श्रद्धालुओं को खूब लुभाती है। बर्फबारी में माता शिकारी देवी में कड़ाके की ठंड पड़ने से देवी के मंदिर के कपाट करीब तीन माह….. Continue Reading!

Share Some Love

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Posted by: Admin Himachali Roots on