हिमाचली टोपी पहन राजपथ पहुंचे रामनाथ कोविंद, फिर झलका राष्ट्रपति का देवभूमि से प्रेम

हिमाचल देवभूमि होने के साथ-साथ अपनी कला, संस्कृति और खूबसूरत पहनावे के लिए भी जाना जाता है। हिमाचली टोपी भी इसमें से एक है। हालांकि प्रदेश में हरी और लाल टोपी की सियासत भी किसी से छिपी नहीं है।

लेकिन इस टोपी का हर कोई दिवाना है। चाहे हिमाचल घूमने आने वाले पर्यटक हो या फिर स्‍थानीय लोग। सभी को हिमाचली टोपी पसंद आती है। इस लिस्ट में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का नाम भी शामिल है जो एक बार फिर हिमाचली टोपी पहने नजर आए।

हिमाचली टोपी का सम्मान उस वक्त और बढ़ गया जब देश के सर्वोच्च पद पर बैठे महामहिम राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर हिमाचली टोपी पहनकर पहुंचे।

हिमाचली टोपी पहल राष्ट्रपति ने दिया वीरता सम्‍मान

इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वायुसेना के शहीद गरुड़ कमांडो जेपी निराला (मरणोपरांत) को शांतिकाल के सबसे बड़े वीरता सम्मान अशोक चक्र से सम्मानित किया।

President Ramnath Kovind in Himachali Cap / Topi हिमाचली टोपी पहन राजपथ पहुंचे रामनाथ कोविंद, फिर झलका राष्ट्रपति का देवभूमि से प्रेम

गणतंत्र दिवस समारोह के अलावा, बीते 19 जनवरी को भी राष्ट्रपति भवन में गणतंत्र दिवस के लिए डाइनेमिक लाइटिंग के उद्घाटन के समय भी राष्ट्रपति ने हिमाचली टोपी को सिर पर सजाया था।

कुछ माह पहले कुल्लू के भुट्टिको के कारीगर और प्रबंधकों ने राष्ट्रपति भवन जाकर रामनाथ कोविंद को कुल्लवी टोपी भेंट की थी लेकिन कुल्लू से बनाकर लाई गई यह टोपी उनके साइज में फिट नहीं बैठी।

सांसद अनुराग ठाकुर ने जताई खुशी

सांसद अनुराग ठाकुर ने  गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हिमाचली टोपी पहन कर तिरंगे की सलामी लेने पर खुशी जताई है। उन्होंने इसे पूरे हिमाचल के लिए एक गौरवशाली क्षण बताया है।

अनुराग ठाकुर ने कहा कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इजरायल दौरे पर हिमाचली टोपी पहन कर हिमाचल का मान अंतरराष्ट्रीय मंच पर बढ़ाया था, उसी तरह महामहिम रामनाथ कोविंद ने गणतंत्र दिवस पर हिमाचली टोपी में तिरंगे को सलामी देकर पूरे हिमाचल को गौरवान्वित किया है।

You May Also Like:

Hotel/Restaurant & Tourism Jobs, Click Here!

Share Some Love

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Posted by: Admin Himachali Roots on